संदीप चौधरी ने जेपी दलाल पर कसा तंज


न्यूज़ 24 पर संदीप चौधरी सबसे बड़ा सवाल के जरिए देश के ज्वलंत मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते रहते हैं, बिना झुके, बिना किसी दबाव के. संदीप चौधरी निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए जाने जाते हैं. चाहे वह किसी भी पार्टी का प्रवक्ता हो, नेता हो संदीप चौधरी के सवालों के सामने पड़ने से भरसक डरता है..

आज के दौर में तमाम मीडिया गोदी बना हुआ है, लेकिन अपने कार्यक्रम सबसे बड़ा सवाल के जरिए संदीप चौधरी ने अपनी रीढ़ मजबूत की हुई है. आज 14 फरवरी को अपने कार्यक्रम सबसे बड़ा सवाल में संदीप चौधरी ने मुद्दा उठाया था कि किसानों का अपमान करके निकलेगा समाधान? इस मुद्दे पर संदीप चौधरी ने हरियाणा के कृषि मंत्री को जमकर घेरा.. 


संदीप चौधरी ने कहा कि जिसे आप जानते भी ना हो, आपके जानने वाले के पिता, किसी की माता, किसी की बहन, किसी के भाई की मौत की खबर मिलती है तो आप क्या करेंगे? संदीप चौधरी ने कहा कि आप किसी की भी मौत की खबर सुनकर अफसोस व्यक्त जरूर करेंगे.. 


संदीप ने कहा कि आप अगर कहीं गाड़ी में जा रहे हो या पैदल जा रहे हो और कहीं कोई अर्थी दिखती है या कोई जनाजा निकल रहा होता है तो आंखें नम हो जाती हैं, सिर शिद्दत में झुक जाता है. कोई प्रार्थना भी मुंह से निकल जाती है. यह उनके लिए होता है जिन्हें आप या हम जानते नहीं, जिनसे कोई तालुकात नहीं होता है, कोई रिश्ता नहीं होता है. यह इंसानियत का रिश्ता होता है. इसीलिए तो हम इंसान है ना?. 


संदीप चौधरी (Sandeep Chaudhary) ने कहा कि जानवर और इंसान में क्या फर्क है? संदीप चौधरी ने यह सब बातें अपने कार्यक्रम में हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल के शर्मनाक बयान के बाद कहीं. संदीप चौधरी ने कहा कि किसान आंदोलन का 81 वा दिन है. किसान डटे हुए हैं, अड़े हुए हैं दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डर पर और इन्हीं सब के बीच 200 से ज्यादा किसानों की मौत भी हुई है. यह किसान संगठन दावा कर रहे हैं.. 


संदीप चौधरी ने कहा कि 200 मौतें हो जाएं या फिर एक मौत हो संवेदना व्यक्त होनी चाहिए, लेकिन हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल कहते हैं कि घर पर भी होते तो वहां भी उनकी मौतें होती. कोई हार्ट अटैक से मर रहा है कोई बुखार से मार रहा है. सवाल यहां पर यह है कि इस किसान आंदोलन को क्या बदनाम भी किया जा रहा है? चौधरी ने कहा कि किसानों की जो मांग है उससे आप सहमत हो सकते हैं या नहीं भी हो सकते हैं.. 


संदीप ने कहा कि यह लोकतंत्र है. संदीप हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल के बयान पर बहुत ही आक्रामक तेवर अख्तियार किए हुए थे अपने कार्यक्रम में. और किसानों के खिलाफ चलाए जा रहे षड्यंत्र को भी उन्होंने ठीक नहीं ठहराया. उनका कहना था कि यह लोकतंत्र है और सबको मर्यादित भाषा में अपनी बात रखने का, लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन करने का हक है.. 

Post a Comment

0 Comments