महाराष्ट्र में अब बैलेट पेपर से होंगे चुनाव, विधानसभा स्पीकर नाना पटोले ने कानून बनाने का दिया निर्देश

विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले (Nana Patole) ने इस संबंध में कानून बनाने का निर्देश दिया है। यदि विधानमंडल में कानून मंजूर हो गया तो विधानसभा चुनाव और स्थानीय निकाय चुनाव बैलट पेपर (Ballot Paper) के जरिए कराया जाएगा.. 

ईवीएम से छेड़छाड़ की शिकायतों पर एक न्यूज़ एजेंसी से बात करते हुए नाना पटोले ने कहा “मैंने राज्य सरकार से इस संबंध में एक कानून बनाने को कहा है। राज्य सरकार एक कानून बना सकती है अतीत में चुनाव के दौरान कई बार ईवीएम से छेड़छाड़ के बारे में संदेह पैदा हुआ है। नाना पटोले ने कहा कि मतदान एक मौलिक अधिकार है और किसी को भी बैलट पेपर या ईवीएम का उपयोग करके वोट डालने का विकल्प होना चाहिए.. 

आप तो जानते ही होंगे कि चुनाव में अक्सर ईवीएम से छेड़छाड़ की शिकायतें सामने आती है। यही वजह है कि महाराष्ट्र में बैलेट पेपर का विकल्प देने को लेकर कानून बनाने की कवायद तेज हो चली है।

चुनाव में ईवीएम से छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए कांग्रेस सहित कई दलों ने चुनाव आयोग से बैलेट पेपर प्रणाली को वापस लेने का आग्रह किया था.. 

विधानसभा के स्पीकर नाना पटोले के फेसबुक पेज पर जारी एक बयान के अनुसार प्रदीप नामक शख्स ने विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष इस संबंध में एक आवेदन दिया था.. 

और उसी के अनुसार विधान भवन में उसी पर चर्चा के लिए एक बैठक आयोजित की गई थी। इस मसले पर हुई बैठक में राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी बलदेव सिंह, राज्य के चिकित्सा शिक्षा मंत्री अमित देशमुख और भी कई अन्य लोग बैठक के लिए मौजूद थे.. 

गौरतलब है कि देश भर के कई विपक्षी दल ने बीते कई मौकों पर ईवीएम से छेड़छाड़ का आरोप लगाया है, और ईवीएम के बदले बैलट पेपर प्रणाली को वापस लेने की मांग की है। आपको बता दें कि इस प्रस्ताव पर महाराष्ट्र में महा विकास आघाडी गठबंधन जिसमें शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी शामिल है इन तीनों की सहमति एक ही है.. 

Post a Comment

0 Comments