गोदी पत्रकार रजत शर्मा ने फिर की मोदी की चापलूसी


 राहुल गांधी द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर की गई टिप्पणियों को लेकर हिंदी न्यूज चैनल India TV के एडिटर-इन-चीफ और चेयरमैन रजत शर्मा ने कहा है कि राहुल का मोदी को ‘कायर’ कहना शर्मनाक है. दरअसल, टीवी पत्रकार ने इस मसले पर अपनी बेवसाइट पर ‘राहुल का मोदी को ‘कायर’ कहना न सिर्फ अपमानजनक है बल्कि शर्मनाक भी है’ शीर्षक वाला एक लेख लिखा था.

उन्होंने इसमें कहा था- आज मैं आपसे बड़े दुखी मन से राहुल गांधी के बारे में कुछ कहना चाहता हूं. उन्होंने कहा था, राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरोध में शालीनता की हद पार कर दी. उन्होंने लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के पीछे हटने के मुद्दे पर मोदी के बारे में जिन शब्दों का प्रयोग किया, वे अशोभनीय और अपमानजनक हैं. जिसने भी शुक्रवार को राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस देखी होगी, उसे तब बहुत बुरा लगा होगा.


रजत शर्मा के अनुसार, अपने गुस्से को जाहिर करते हुए राहुल गांधी यह भूल गए कि नरेंद्र मोदी एक व्यक्ति नहीं है बल्कि देश के प्रधानमंत्री हैं. वह पूरी दुनिया के सामने भारत के प्रतिनिधि हैं, हमारे देश के सबसे बड़े नेता हैं और उन्हें देश की जनता ने ये जिम्मेदारी सौंपी है. नरेंद्र मोदी किसी एक पार्टी के नेता नहीं हैं, देश की सरकार के मुखिया हैं और 135 करोड़ लोगों के प्रतिनिधि हैं. चीन की तरफदारी करना और अपने प्रधानमंत्री को कायर कहना स्वीकर नहीं किया जा सकता.




Home  Social Media

गोदी पत्रकार रजत शर्मा ने फिर की मोदी की चापलूसी

By thoughtofnation -February 14, 2021

rajat-sharma-modi


 

राहुल गांधी द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर की गई टिप्पणियों को लेकर हिंदी न्यूज चैनल India TV के एडिटर-इन-चीफ और चेयरमैन रजत शर्मा ने कहा है कि राहुल का मोदी को ‘कायर’ कहना शर्मनाक है. दरअसल, टीवी पत्रकार ने इस मसले पर अपनी बेवसाइट पर ‘राहुल का मोदी को ‘कायर’ कहना न सिर्फ अपमानजनक है बल्कि शर्मनाक भी है’ शीर्षक वाला एक लेख लिखा था.



 

उन्होंने इसमें कहा था- आज मैं आपसे बड़े दुखी मन से राहुल गांधी के बारे में कुछ कहना चाहता हूं. उन्होंने कहा था, राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरोध में शालीनता की हद पार कर दी. उन्होंने लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के पीछे हटने के मुद्दे पर मोदी के बारे में जिन शब्दों का प्रयोग किया, वे अशोभनीय और अपमानजनक हैं. जिसने भी शुक्रवार को राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस देखी होगी, उसे तब बहुत बुरा लगा होगा.


रजत शर्मा के अनुसार, अपने गुस्से को जाहिर करते हुए राहुल गांधी यह भूल गए कि नरेंद्र मोदी एक व्यक्ति नहीं है बल्कि देश के प्रधानमंत्री हैं. वह पूरी दुनिया के सामने भारत के प्रतिनिधि हैं, हमारे देश के सबसे बड़े नेता हैं और उन्हें देश की जनता ने ये जिम्मेदारी सौंपी है. नरेंद्र मोदी किसी एक पार्टी के नेता नहीं हैं, देश की सरकार के मुखिया हैं और 135 करोड़ लोगों के प्रतिनिधि हैं. चीन की तरफदारी करना और अपने प्रधानमंत्री को कायर कहना स्वीकर नहीं किया जा सकता.. 

शर्मा के अनुसार- चीन की फौज को शातिर और अपनी फौज को कमजोर कहना बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. राहुल गांधी के स्टेटमेंट पर सवाल उठाते हुए उन्होंने आगे लिखा- राहुल आखिर कहना क्या चाहते हैं? जिन नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक की, वह कायर हो गए? जिन नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान को घर में घुसकर मारा, एयर स्ट्राइक की, वह गद्दार हो गए? और जिन राहुल गांधी ने एयर स्ट्राइक और सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगे, वह महान देशभक्त हो गए?. 

रजत शर्मा के अनुसार- क्या राजनीतिक बहस की भाषा ऐसी ही होनी चाहिए? उनके मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी ने चीन को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया तो वह डरपोक हैं? और राहुल गांधी चीन की हिमायत करने के चक्कर में चुपके-चुपके चीनी राजदूत से मिले तो वह बहुत बड़े सूरमा है? जिन नरेंद्र मोदी ने चीन पर इकोनॉमिक प्रैशर डाला, दुनिया भर के मुल्कों से दबाव डलवाया, झुकने को मजबूर कर दिया, वह कमजोर नेता हैं? और जो नेता लद्दाख गतिरोध के मुद्दे को लेकर मोदी पर सवाल उठा रहे हैं वे बहादुर हो गए?. 

हालांकि, शर्मा के इस ट्वीट पर सोशल मीडिया यूजर्स ने तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दीं. कई ने उन्हें ट्रोल कर दिया, कई लोगो ने रजत शर्मा को पत्रकारिता करने की सलाह दी तो कई ने उन्हें गोदी पत्रकार कहा. वहीं, कुछ ने उन्हें बीजेपी नेत्री और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का एक पुराना बयान दिलाया, जिसमें उन्होंने निर्भया केस के बाद पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को चूड़ियां भेजने की बात कही थी.. 

आपको बता दें कि रजत शर्मा जैसे गोदी पत्रकार है अक्सर मोदी सरकार की गलतियों पर पर्दा डालने के लिए विपक्ष के नेताओं को बदनाम करते हुए नजर आ जाते हैं. जब जब राहुल गांधी मोदी सरकार की नीतियों को उजागर करते हैं, मोदी की असफलताओं को जनता के सामने रखते हैं, तब-तब रजत शर्मा जैसे गोदी पत्रकार अपनी छटपटाहट दिखाने लगते हैं. और इसके साथ ही राहुल गांधी के बयानों को तोड़ मरोड़ कर जनता के बीच भ्रम फैलाते है.. 

Post a Comment

0 Comments