संसद सत्र न चलने पर बोलीं प्रियंका-महंगाई पर सवाल होगा न कि आम चूसकर खाते हैं या काटकर

संसद में चल रहे मानसून सत्र के दौरान मोदी सरकार विपक्ष द्वारा उठाए जा रहे मुद्दों पर जवाबदेही से बचने की कोशिश में लगी हुई है।

संसद में कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दलों द्वारा मोदी सरकार को किसानों के मुद्दे पर, पेगासस और महंगाई के मुद्दे पर सवालों के कटघरे में खड़ा किया जा रहा है।

इस मामले में अब कांग्रेस के महासचिव और उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी ने भारतीय जनता पार्टी पर तीखा हमला बोला है।

प्रियंका गांधी ने कहा है कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संसद में विपक्ष द्वारा उठाए जा रहे महंगाई के मुद्दे पर चर्चा करने से डरते हैं। इस संदर्भ में प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया है।

ट्वीट कर प्रियंका गांधी ने लिखा है कि वे “आप आम कैसे खाते हैं” जैसे सवालों के आदी हैं, इसलिए बढ़ती महंगाई जैसे आमजनों को परेशान करने वाले सवालों पर संसद में चर्चा करने से डरते हैं।

इस ट्वीट में प्रियंका गांधी ने रोजमर्रा की चीजों के बढ़ रहे दामो के लिस्ट भी शेयर की है। जिसमें खाद्य तेलों के दाम भी शामिल हैं।

ट्वीट में शेयर की गई खबर में बताया गया है कि बीते साल जुलाई से लेकर अब तक खाद्य तेलों के दामों में 52 फ़ीसदी की बढ़ोतरी हो चुकी है।

इससे संबंधित राजयसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए खाद्य और उपभोक्ता मामलों के राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने बताया है कि कोरोना महामारी के मद्देनजर सरकार ने दलहन और खाद्य तेल जैसी जरूरत की चीजों की कीमतों में बढ़ोतरी को रोकने के लिए सरकार द्वारा कई कदम उठाए जा रहे हैं।

गौरतलब है कि साल 2014 के लोकसभा चुनाव में सत्ता संभालने से पहले भारतीय जनता पार्टी के नेताओं द्वारा महंगाई के खिलाफ कई आंदोलन किए गए थे।

सत्ता संभालने के बाद मोदी सरकार बीच में लगातार महंगाई बढ़ाने का काम कर रही है। अब आलम ये है कि सरकार के मंत्री महंगाई के मुद्दे पर विपक्ष के सवालों से मुंह छिपा कर भाग रहे हैं।

Post a Comment

0 Comments