महामारी में बढ़ी बेरोजगारी के बीच अंबानी के अच्छे दिनों की एक और खबर, एकदिन में कमाए 27 हजार करोड़

ब्लूमबर्ग बिलियनेयर इंडेक्स के मुताबिक, रिलायंस इंडस्ट्रीज़ के शेयर शुक्रवार को रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने से उसके चेयरमैन मुकेश अंबानी की संपत्ति एक दिन में $371 करोड़ (₹27,000 करोड़ से अधिक) बढ़कर $92.6 अरब हो गई।

अंबानी फिलहाल एशिया के सर्वाधिक और दुनिया के 12वें सबसे अमीर शख्स हैं। जेफ़ बेजॉस, एलोन मुस्क, बर्नार्ड अर्नोल्ट क्रमशः पहले दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं। इस साल अब तक मुकेश अंबानी की संपत्ति $15.9 अरब बढ़ चुकी है।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि बीते साल अगस्त में मुकेश अंबानी दुनिया के सबसे अमीर लोगों की फेहरिस्त में चौथे नंबर पर भी पहुँच चुके हैं|।

आंकड़े बताते हैं कि मात्र 2014 से 2019 के दौरान मुकेश अंबानी के रिलायंस समूह की कंपनियों का मार्केटकैप 4.84 लाख करोड़ रुपये बढ़ा था, जबकि UPA-II के दौरान यह सिर्फ 11,684 करोड़ रुपये बढ़ा था।

मोदी सरकार के 2014 से 2019 सालों के दौरान अंबानी ने अपने बिजनेस में काफी विविधता हासिल करते हुए टेलिकॉम और रिटेल बिजनेस में अपने पांव जमा लिए थे।

एनर्जी सेगमेंट के कारोबार का भी विस्तार हुआ। मोदी के पहले कार्यकाल के दौरान उनकी प्रमुख कंपनी RIL ने जोरदार रिटर्न भी दिया था।

वैसे तो अमीरों की लिस्ट की घोषणा औद्योगिक जगत और मीडिया में इनके पिट्ठुओं को पीठ थपथपाने और जीत के खुल्लम-खुल्ला प्रदर्शन का इशारा होता है।

इन बड़े बड़े आंकड़ों को उठाकर ऐसे दिखाया जाता है मानो भारत तरक्की कर रहा है और सुपर पॉवर बनने से बस एक कदम दूर है।

पर सच्चाई तो यह है कि इस लिस्ट में 130 करोड़ से ऊपर की आबादी वाले देश में जगह मिलती है मात्र 100 को क्योंकि पैसा तो सारा उनके पास ही जाता है।

पर इस घनघोर वीभत्स परिस्थिति पर मनन करने के बजाए चाटुकारी मीडिया उसका ऐसे प्रदर्शन करता है। मानों अच्छे दिन आ चुके हों और वह भी किसी विशेष प्रकार की सब्सिडी प्रणाली के चलते मात्र अमीरों की झोली में आ गिरे हों।

ब्लूमबर्ग बिलियनेयर इंडेक्स के मुताबिक, अडानी की संपत्ति भी साल 2020 में 19 अरब डॉलर से बढ़कर 30 अरब डॉलर तक जा चुकी है।

इस आंकड़ें के आधार पर यदि सिर्फ मोदी कार्यकाल के समय को देखें तो इसमें अडानी ने 230% वृद्धि की है।

चलिए यह तो बात हो गई अडानी और अंबानी की अब जरा आप बताइये कि आपकी आमदनी इन बीते सालो में कितनी बढ़ी है?

खाना बनाने के लिए इस्तेमाल में लाया जाने वाला आपका घरेलू सिलिंडर 300 से पहुंचकर 1000 का आंकड़ा छूने को आतुर है, 50 रुपये के करीब प्रति लीटर मिलने वाला पेट्रोल अपना सैकड़ा लगा चुका है और इन सबके बीच आपकी रफ़्तार कितनी है इस बात का आंकड़ा आप खुद ही लगा लें।

एक खबर के हिसाब से जब लॉकडाउन के समय आप एक एक रुपये के मोहताज हो चले थे तब अंबानी महोदय प्रतिदिन करोड़ों कमा रहे थे। यह वो रकम है जिसकी कल्पना आप सोते समय करते हैं और आरामदायक जीवन की अनुभूर्ति करते हैं।

Post a Comment

0 Comments